Abstract View

Author(s): सीमा पाल, आभा रूपेन्द्र पाल

Email(s): Not Available

Address: पं. रविशंकरशुक्ल वि.वि. रायपुर (छ.ग.)

Published In:   Volume - 23,      Issue - 1,     Year - 2017

DOI: 10.52228/JRUA.2017-23-1-6  

ABSTRACT:
वैदिक काल में स्त्रियों को भी पुरूषों की भांति ही शिक्षा की सुविधाएं और अवसर उपलब्ध थे।अथर्ववेद में स्पष्ट ही कन्या के द्वारा ब्रह्यचर्य की व्यवस्था के पालन का उल्लेख है।मनु और कुछ बाद के स्मृतिकारो से भी मालूम होता है कि पूर्वकाल मे लड़कियों का भी उपनयन संस्कार होता था।प्रायः कन्या के विवाह की आयु 16 या 17 थी, इसलिए उन्हें शिक्षा प्राप्त करने का समय मिलता था।कुछ लड़कियां विवाह की आयु हो जाने पर भी अध्ययन समाप्त नही करती थीं,उन्हें ‘ब्रम्हवादिनी’ कहते थे । ऐसी स्त्रिया जो अध्यापन का कार्य करती थीं,उनके लिए ‘आचार्य’/‘उपाध्याया’ आदरसूचक शब्द का प्रयोग होता था। ‘औदमेघाः’ शब्द पर पतंजलि की व्याख्या से स्पष्ट है कि छात्र शिक्षिकाओं के उपयोग के लिए बने आवास ‘छात्रीषाला’ कहलाते थे। स्त्रियों को वैदिक साहित्य के अध्ययन और यज्ञों को करने का अधिकार था।

Cite this article:
सीमा पाल; आभा रूपेन्द्र पाल, "आधुनिक काल मेें महिला शिक्षा-समसामयिक संदर्भ में", Journal of Ravishankar University (Part-A: SOCIAL-SCIENCE), 23(1), pp. 47-51.DOI: https://doi.org/10.52228/JRUA.2017-23-1-6


References:

1½ ikBd] ih-Mh-&Hkkjrh; f’k{kk vkSj mudh leL;k,W] fouksn iqLrd eafnj] vkxjk ¼1990½]i`"B&562

2½ vkuan] lqxe &Hkkjrh; bfrgkl esa ukjh] lkfgR; laxe] bykgkckn] ¼2007½] i`"B&130

3½ etwenkj] jk; pkS/kjh vkSj nRr&,u ,MokULM fgLVªh vkWQ bafM;k] i`"B&579

4½ ojs] ,l-,y-& Hkkjrh; bfrgkl esa ukjh ¼izkjaHk ls orZeku rd½]dSyk’k iqLrd lnu] Hkksiky] ¼2007½] i`"B&84

5½ JhokLro] f’ko’kadj& Hkkjrh; laLd`fr] 'kkjnk iqLrd Hkou] bykgkckn] ¼2010½] i`"B&264

6½ ekFkqj] ,y- ih-& Hkkjr dh efgyk Lora=rk lsukuh] vfo"dkj ifCy’klZ] t;iqj] ¼2010½] i`"B&3

7½ izlkn] dkes’oj&Hkkjr dk bfrgkl¼1757 bZ-&1950 bZ-½]Hkkjrh Hkou] ifCy’klZ ,.M fMLVªhC;wVlZ] iVuk]¼1998½] i`"B&242

8½ ojs] ,l-,y-& Hkkjrh; bfrgkl esa ukjh ¼izkjaHk ls orZeku rd½]dSyk’k iqLrd lnu] Hkksiky] i`"B&166

9½ ikBd] ih-Mh-&Hkkjrh; f’k{kk vkSj mudh leL;k,W] fouksn iqLrd eafnj] vkxjk ¼1990½]i`"B&564

10½ xzksoj] ch-,y- ,ao ;’kiky &vk/kqfud Hkkjr dk bfrgkl] ,l- pan ,.M daiuh fyfeVsM] ubZ fnYyh] ¼1995½] i`"B&361

11½ dksBkjh deh’ku fjiksVZ ¼1964&66½] i`"B&138&139

Related Images:



Recent Images



Protection Of Geographical Indications: A Necessity
Relationship Impact On Customer
Art Tradition Of Dakslna Kosala Chhattisgarh
Financial Management of Chhattisgarh Government
कृषि क्षेत्र में रोजगार का स्वरूप - रायपुर जिला का एक अध्ययन
छत्तीसगढ़ी में वचन
बौद्ध दर्शन में मानव - स्वरूप की  विवेचना
मध्यप्रदेश में प्रवास
संस्कृति तथा आयु के प्रकार्य के रूप में नैतिक तथा अनैतिक मूल्यों का अध्ययन
Spelling Problems Of Oria Learners Of English As L2

Tags


Recomonded Articles:

Author(s): सीमा पाल ; आभा रूपेन्द्र पाल

DOI: 10.52228/JRUA.2017-23-1-6         Access: Open Access Read More