Abstract View

Author(s): टिके सिंह, ए. बघेल

Email(s): Email ID Not Available

Address: 1सहायक प्राध्यापक, 2प्राध्यापक, भूगोल अध्ययनशाला, पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, रायपुर.

Published In:   Volume - 24,      Issue - 1,     Year - 2018

DOI: 10.52228/JRUA.2018-24-1-5  

ABSTRACT:
प्रस्तुत अध्ययन सरगुजा जिले में ग्रामीण शिशु मत्र्यता से संबंधित है। प्रस्तुत अध्ययन का उद्देश्य सरगुजा जिले में ग्रामीण जनसंख्या में शिशु मत्र्यता की स्थिति का आकलन एवं उसको प्रभावित करने वाले आर्थिक कारकों का विश्लेषण करना है। प्रस्तुत अध्ययन प्राथमिक आँकड़ों पर आधारित है। इस हेतु दो प्रकार की अनुसूची का उपयोग किया गया है। प्रथम पारिवारिक और द्वितीय व्यक्तिगत अनुसूची। अध्ययन हेतु जिले से प्रतिचयन यादृच्छिक विधि के द्वारा 38 ग्रामों की 2691 विवाहित महिलाओं से सूचना एकत्र किया गया, जिन्होंने सर्वेक्षण वर्ष के अन्दर शिशु को जन्म दिया हो अथवा जिनकी एक वर्ष से कम उम्र के शिशु की मृत्यु अथवा मृत जन्म हुआ। इन महिलाओं से शिशुु मृत्यु तथा प्रभावित करने वाले आर्थिक कारकों से संबंधी सूचना एकत्र किया गया है। जिले में शिशु मत्र्यता दर 71.3 प्रति हजार है। जिले में शिशु मत्र्यता दर बालकों में 72.0 प्रति हजार तथा बालिकाओं में 65.4 प्रति हजार है। परिजन्म मत्र्यता दर 22.3 प्रति हजार, नवजात मत्र्यता दर 33.9 प्रति हजार तथा नवजातोत्तर मत्र्यता दर 37.4 प्रति हजार है। प्रस्तुत शोध पत्र में आर्थिक कारक के अंतर्गत माता-पिता का व्यवसाय, जोत का आकार एवं पारिवारिक आय शामिल है। भूमिहीन परिवारों में शिशु मत्र्यता दर सबसे अधिक 83.3 प्रति हजार है। लघु एवं सीमांत कृषक परिवारों में शिशु मत्र्यता दर 72.8 प्रति हजार, अर्द्ध मध्यम कृषक परिवार में 64.1 प्रति हजार, मध्यम कृषक परिवारों में 53.4 प्रति हजार और वृहद् कृषक परिवार में सबसे कम 47.6 प्रति हजार है। शिशु मत्र्यता दर अन्य श्रमिक (92.2 प्रति हजार), कृषि श्रमिक (81.9 प्रति हजार) और कृषकों (57.0 प्रति हजार) से अधिक है। शिशु मत्र्यता दर व्यापार और गृह उद्योग में संलग्न पति में क्रमशः 25.3 प्रति हजार और 19.2 प्रति हजार है। शासकीय सेवा में संलग्न पति में शिशु मत्र्यता दर (11.5 प्रति हजार) सबसे कम है। आय में वृद्धि के साथ शिशु मत्र्यता दर में क्रमशः कमी हुई है। अतः आर्थिक कारक शिशु मत्र्यता दर को प्रभावित करने वाला प्रमुख कारक है।

Cite this article:
सिंह, बघेल (2018). सरगुजा जिले में आर्थिक कारक एवं ग्रामीण शिशु मत्र्यता: एक भौगोलिक विश्लेषण. Journal of Ravishankar University (Part-A: SOCIAL-SCIENCE), 24(1), pp.27-36.DOI: https://doi.org/10.52228/JRUA.2018-24-1-5


References
  1. Boage, D.Principales of Demography, Jon Wiley and Sons New York.1969.
  2. Deporte. “Inter-Racial Variation in Infant Mortality”, A American Journal of Hygien (USA), 1925; 5 (4): 454-496.
  3. Farah, A.M. Child Mortality and its correlates in Sweden, Ph-D. Thesis, University of Pennsulvania.1981.
  4. Flegg, A.T. “Inequdity of Income Illiteracy and Medical care as Determinants of Infant Mortality in Under Development countries”, Population Studies, 1982; 36 (3): 441-458.
  5. Gupta, H. S. & Baghel, A. “Infant Mortality in the Indian Slums:  Case Studies of Calcutta Metropolis and Raipur city”, International Journal of Population Geography. 1999; 5: 353-366.
  6. Gupta, H.s. & Baghel, A. "Inter-District Variation in Child Mortality in Madhya Pradesh" Trasaction Institute of Indian Geographers, 2003; 25(182): 76-84.
  7. Mandelbaum, David, G. Human Fertility in India-Social Components and policy Perspectives, Oxford University Press Delhi. 1974.
  8. Mehta, S. India’s Rural Female Working Force and its Occupational Structure – A Geogeaphical Analysis, The Indian Geographers.1967;12(1&2): 50.
  9. Sapru. IDRC and FP Collaborative Study on Infant Mortality and Fertility in B. Jana and R. N. Pati (Eds) Health and Family Walfare Service in India, ashish Publication House, New Delhi.1989.
  10. Woodbarry, R.M. “Economic Factors in Infant Mortality” Journal of the Five American Statistical Association (USA). 1924; 19 (140):137-155.

Related Images:



Recent Images



Protection Of Geographical Indications: A Necessity
Relationship Impact On Customer
Art Tradition Of Dakslna Kosala Chhattisgarh
Financial Management of Chhattisgarh Government
कृषि क्षेत्र में रोजगार का स्वरूप - रायपुर जिला का एक अध्ययन
छत्तीसगढ़ी में वचन
बौद्ध दर्शन में मानव - स्वरूप की  विवेचना
मध्यप्रदेश में प्रवास
संस्कृति तथा आयु के प्रकार्य के रूप में नैतिक तथा अनैतिक मूल्यों का अध्ययन
Spelling Problems Of Oria Learners Of English As L2

Tags


Recomonded Articles:


Popular Articles