Abstract View

Author(s): आरती पाठक

Email(s): artipathak81@gmail.com

Address: सहायक प्राध्यापक , सहित्य एवं भाषा अध्ययनशाला
पं . रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर (छत्तीसगढ़).

Published In:   Volume - 17,      Issue - 1,     Year - 2012

DOI: Not Available

ABSTRACT:
भाषा का ठीक - टीक ज्ञान न होने पर प्रस्तुतीकरण तथा सप्रेषण उचित तरीके से प्रस्तुत नहीं होता है । भाषा वर्तनी से प्रारंभ होती है , इसी कारण इसमें अक्षर , शब्द और वाक्य - रचनाओं का अध्ययन एवं अध्यापन क्रमबद्ध तरीके से किया जाना उत्तम माना जाता है । आज के परिवेश से तालमेल बैठाने के लिए . व्यक्तित्व के संपूर्ण विकास के लिए , नए वैज्ञानिक तकनीकी से तादात्म्य स्थापित करने के लिए द्वितीय भाषाशिक्षण एवं द्वितीय भाषा का ज्ञान दोनों अत्यंत आवश्यक हो गया है । आज ग्लोबलाइजेशन के युग में द्वितीय भाषा की महत्ता एवं आवश्यकता को कोई नजरअंदाज नहीं कर सकता ।

Cite this article:
पाठक (2012). द्वितीय भाषाशिक्षण की उपयोगिता. Journal of Ravishankar University (Part-A: Science), 17(1), pp.27-30.


References not available.

Related Images:



Recent Images



Protection Of Geographical Indications: A Necessity
Relationship Impact On Customer
Art Tradition Of Dakslna Kosala Chhattisgarh
Financial Management of Chhattisgarh Government
कृषि क्षेत्र में रोजगार का स्वरूप - रायपुर जिला का एक अध्ययन
छत्तीसगढ़ी में वचन
बौद्ध दर्शन में मानव - स्वरूप की  विवेचना
मध्यप्रदेश में प्रवास
संस्कृति तथा आयु के प्रकार्य के रूप में नैतिक तथा अनैतिक मूल्यों का अध्ययन
Spelling Problems Of Oria Learners Of English As L2

Tags


Recomonded Articles:


Popular Articles