Article in HTML

Author(s): अनुसुइया बघेल

Email(s): Email ID Not Available

Address: भूगोल अध्ययन – शाला
पं.रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर

Published In:   Volume - 7,      Issue - 1,     Year - 1994


Cite this article:
बघेल (1994). मध्यप्रदेश में प्रवास. Journal of Ravishankar University (Part-A: Science), 7(1), pp.74-86.



मध्यप्रदेश में प्रवास

अनुसुइया बघेल

भूगोल अध्ययन – शाला,

पं.रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर

आलेख प्राप्त १-८ - ९ १ संशोधन १६-२ -९ ३

सार - संक्षेप किसी की जनसंख्या के भौगोलिक विश्लेषण में प्रवास का अध्ययन महत्वपूर्ण होता है.यह जनसंख्या का एक अनिश्चित घटक है , तथापि इसका संबंध राष्ट्रीय घटनाओं तथा आर्थिक उतार चढ़ाव से होने के कारण यह जनसंख्या के अध्ययन में अन्य सभी तत्वों से अधिक ध्यान आकृष्ट करता है . मध्यप्रदेश जनसंख्या प्रवास का विश्लेषण जन्म - स्थान सांख्यिकी ' के आधार पर किया गया है , जो केवल आप्रवास के संबंध में जानकारी देते हैं . १ ९ ८१ की जनगणना के अनुसार राज्य की ३३.५३ प्रतिशत जनसंख्या के जन्म स्थान में परिवर्तन हुआ है . प्रवास का सबसे बड़ा प्रकार ग्रामीण से ग्रामीण प्रवास ( ७७.७७ प्रतिशत ) है . प्रवास संबंधी प्रत्यक्ष सूचना उपलब्ध नहीं होने के कारण प्रदेश के विभिन्न जिलों में शुद्ध प्रवास की मात्रा ज्ञात करने के लिए " जीवित बची रहने वाली जनसंख्या का अनुपात विधि का प्रयोग किया गया है.शुद्ध प्रवास की दृष्टि से भोपाल और इंदौर जिले का क्रमश : प्रथम और द्वितीय स्थान है , जहां जनसंख्या का आप्रवास हुआ है.

NOTE: Full version of this manuscript is available in PDF.



Related Images:

Recomonded Articles:

Author(s): बी.एल.सोनेकर; सुनील कुमेटी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): अनुसुइया बघेल

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): सरला शर्मा; शकुंतला त्रिपाठी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): राजेश कुमाद दुबे; प्राची खरे

DOI: 10.52228/JRUA.2017-23-1-1         Access: Open Access Read More

Author(s): अर्चना सेठी

DOI: 10.52228/JRUA.2023-29-2-2         Access: Open Access Read More